जगदलपुर MyNews36- शहर में कई युवा, नाबालिग नशीली दवाओं के सेवन के आदी हो गए हैं। खासकर झुग्गी बस्ती में नशीली दवा का कारोबार तेजी से फल-फूल रहा है। अधिकांश मोहल्ले, बस्तियों में कफ सिरप, टेबलेट आदि खपाने वाले सक्रिय हैं। नशीली दवाओं का धंधा करने वाले बाइक, आटो से गली-मोहल्लों में जाकर नशेड़ियों को चार-पांच गुना दाम में दवा बेच रहे हैं। यह शिकायत पुलिस तक पहुंच रही है, लिहाजा सादी वर्दी में जवानों को दवा सप्लायरों की तलाश में लगाया गया है।

MyNews36 बस्तर में नशीली दवाओं के अवैध व्यापार एवं नशे के गिरफ्त में युवावर्ग पर लगातार खबरों के माध्यम से शासन- प्रशासन तक जनता की आवाज बनकर आवाज उठाता आ रहा है। नशीली दवा के कारोबार की पड़ताल करने पर पता चला कि बस्तर हीं नहीं, प्रदेश भर में नशीली दवाओं का कारोबार फिर से बढ़ रहा है। रैकेट बनाकर तस्कर गली-मोहल्लों में नशीली दवा खपा रहे हैं। युवा और नाबालिग सबसे ज्यादा इसकी लत के शिकार हैं। दवा दुकानों से ये दवाएं नियमित ग्राहक को ही दी जा रही हैं। फनसीडील हो या एल्प्राजोलम, नेट्रावेट हो या कोडीन और टोरेक्स सिरप, नशे के आदी लोगों को आसानी से मिल रही है। ये दवाइयां प्रतिबंधित हैं, डॉक्टर के बिना पर्ची बेची नहीं जा सकतीं, लेकिन नशेड़ियों को यह दवाइयां मोहल्ले की किराना दुकानों से लेकर पंक्चर की दुकानों में आसानी से मिल रही हैं। ड्रग विभाग के अफसर लगातार जांच, कार्रवाई का हवाला दे रहे हैं।

नशे के कारण बढ़ रहे अपराध,लड़के तो लड़के लडकियाँ भी नशे का सेवन करने जमावड़ा लगाने लगी हैं!

विदित हो कि पिछले वर्ष भी 5 सितंबर की रात नशे का विरोध करने पर शहर के एक युवा नेता की हत्या नशेड़ीयों ने कर दी थी, जिसके बाद जगदलपुर के युवाओं ने नगर में नशा मुक्ति अभियान चला कर पुलिस प्रशासन पर दबाव बनाया था और एक हद तक शहर से नशीली दवाओं के कारोबार में लिप्त लोगों पर कार्यवाही करने पुलिस विभाग को मजबूर किया था परिणामस्वरूप शहर से नशीली दवाओं के व्यापार पर पुलिस प्रशासन बहोत हद तक कामयाब भी हुई थी! 

शहर में फिर से नशे के कारोबार में लिप्त लोग सक्रिय हो गये हैं,और घूम घूम कर नशीली गोलियां, नशीली सीरप बेच रहे हैं, पकड़े ना जाने के कारण युवा मदिरापान की जगह नशीली दवाओं का सेवन कर रहे हैं और इसका विरोध करने वालों पर जानलेवा हमला करते हैं,पुलिस विभाग को इस कारोबार से जुड़े लोगों पर बड़ी कार्यवाही करने की आवश्यकता है, समय रहते इस पर अंकुश नहीं लगाया गया तो शहर में पुनः अप्रिय घटना जल्द ही घटेगी।

उत्पाती तत्वों द्वारा लगातार चार पहिया वाहन में गाड़ी के शीशे तोड़ रहे, बीती रात में फिर से बालाजी वार्ड में चार पहिया वाहन कार में शीशे तोड़ दिए, ज्ञात हो 2 दिन पहले भी बालाजी वार्ड में ही तिवारी जी की कार में भी शीशे तोड़े गए थे, इस तरह सिर्फ बालाजी वार्ड निवासियों की 4 से 5 गाड़ियों के शीशे तोड़े गए है, विगत दिनों सीताराम शिवाले मंदिर चोरी भी हुई है।

बस्तर में मामूली विवाद पर चाकूबाजी, लूट, मारपीट, चोरी के साथ घरेलू हिंसा के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। अधिकांश घटनाओं में आरोपित नशीली दवाओं के आदी पाए गए हैं। पुलिस अफसरों का कहना है कि टेबलेट, कफ सिरफ आदि को नशे के रूप में इस्तेमाल कर रहे नाबालिग और युवा अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए अपराध कर रहे हैं। नशीली दवाओं का कारोबार पूरी तरह से जब तक बंद नहीं होगा, तब तक आपराधिक घटनाएं घटती रहेंगी।

हमारे देश मे आज के समय मे नशा सबसे गंभीर समस्या बनकर उभर रहा है जिस पर रोक लगाना बहुत आवश्यक है। अनपढ़ लोगो के साथ साथ हमारे देश का पढ़ा लिखा और अच्छे घरो से आने वाले बच्चे भी इस लत के शिकार होते जा रहे है। जो जैसा माहौल का होता है वैसा नशा करता है। इस पढ़े लिखे वर्ग मे लड़का और लड़की दोनों ही समान रूप से नशे मे धुत रहते है। सरकार इस तरफ कोई ध्यान नहीं देती है क्योकि सरकार को इन सभी से सबसे ज्यादा मात्रा मे टैक्स आदि मिलता है तो सरकार द्वारा रोकने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता है।क्या सरकार की इस मामले मे कोई जिमेदारी नहीं बनती है? सिर्फ ऐसा नोटिस लगाकर की 21 वर्ष से ऊपर लड़का और 18 वर्ष के ऊपर की लड़की कोई अपनी इच्छा से कोई भी कार्य कर सकता है इससे क्या जिमेदारी खत्म हो जाती है। नशा न केवल पैसे की बर्बादी का माध्यम होता है बल्कि यह युवाओ की नशो मे जहर घोलने का भी काम करता है।आज के हालातो को देखते हुए ऐसा लगता है कि जब तक सरकार की आँखों से यह पट्टी हटेगी तब तक शायद बहुत देर हो जायेगी।

युवा वर्ग द्वारा नशे की ओर बढ़ने का एक कारण आजकल का माहोल और फिल्म जगत भी है। आजकल युवा डिप्रेशन आदि का शिकार रहता है और टेंशन मे नशे की और युवाओ के कदम बढ़ जाते है। कुछ आजकल की फिल्मो मे भी हद से ज्यादा नशा दिखाया जाता है क्या कोई अभिनेता सिगरेट दारू के मजे ले रहा होता है और मात्र नीचे लिख देने से की सेहत के लिये हानिकारक है क्या इनकी नैतिकता खत्म हो जाती है।यह 21 वी सदी भारत के युवाओ की है संसार मे सबसे ज्यादा युवा भारत मे ही हैं। परन्तु आज भारत का युवा नशे की चपेट मे आता जा रहा है और इसका कारण युवाओ मे नैतिकता का आभाव है।

MyNews36 ब्यूरो चीफ, बस्तर संभाग- एस. डी.ठाकुर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Director & CEO - MANISH KUMAR SAHU , Mobile Number- 9111780001, Chief Editor- PARAMJEET SINGH NETAM, Mobile Number- 7415873787, Office Address- Chopra Colony, Mahaveer Nagar Raipur (C.G)PIN Code- 492001, Email- wmynews36@gmail.com & manishsahunews36@gmail.com