अपराध छत्तीसगढ़ बस्तर संभाग समाचार

ड्रग इंस्पेक्टर की गैर जिम्मेदारी का नतीजा है नशीली दवाओं का अवैध कारोबार -अरुण पाण्डेय

ड्रग इंस्पेक्टर अगर ठान ले तो क्या कोई मेडिकल में 1 गोली भी उनके परमिशन के बिना बेच सकता है..?

जगदलपुर MyNews36- नकली व नशीली दवाईयां सहित इस तरह से अनैतिक व्यापार पर रोक लगाने के लिए जिला व औषधि प्रशासन विभाग के अफसरों को कार्रवाई का अधिकार है, लेकिन अधिकारियों को शहर में नशीली दवाईयों की बिक्री से कोई मतलब ही नहीं है। यही वजह है कि विभागीय अफसर इस तरह की कार्रवाई करने से ही गुरेज करते हैं।

पुलिस इस अवैध कारोबार से जुड़े सभी लोगों पर कार्रवाई करना चाहती है, लेकिन छोटे व निम्न वर्ग के व्यापारी अपनी रोजी-रोटी के चक्कर में बड़े व्यापारियों का नाम लेने से बचते हैं। दरअसल इस तरह की कार्रवाई जिला व औषधि प्रशासन विभाग को करनी चाहिए।

अभी शहर में बिकने वाली नशीली दवाईयों के नाम जो मेडिकल में नहीं मिलती जगदलपुर में कुछ लोग इसे बेच रहे हैं-

  1. CUREX
  2. PHENSIKOF
  3. CODISTAR
  4. PLANOKUF
  5. Rankuf
  6. ESkuf
  7. Bpen-C
  8. COSSEX

इन सभी सिरप में 10 एमजी कोडीन की मात्रा होती है। इसके अलावा नींद की गोली एल्पाजोलम आदि का भी इस्तेमाल किया जाता है।

मेडिकल में बिकने वाली दवाई है जो नशेड़ी नशे के लिए उपयोग कर रहे हैं इन दवाओं का होता है नशे के लिए इस्तेमाल
युवाओं द्वारा इन दिनों नशे के लिए जिन दवाइयों का इस्तेमाल किया जा रहा है उसमें सबसे अधिक खांसी की सिरप है जिसमें

  1. कोफेक्स DX
  2. जैनोडिलDX
  3. चोकोDx
  4. कोडेक्टसDX
  5. रेक्सकफ DX
  6. रेक्सोडीनDX
  7. एक्सीप्लान DXआदि।

MyNews36 ब्यूरो चीफ, बस्तर संभाग- एस. डी. ठाकुर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *