mynews36.com

रायपुर-अधिक समय तक धूप में रहने,शारीरिक गतिविधि,उपवास,तीखा आहार, कुछ दवाओं, बीमारी और इंफेक्शन के चलते निर्जलीकरण कहीं भी और कभी भी हो सकता है. इसके आम लक्षणों में थकान,चक्कर आना, सिरदर्द, गहरे पीले रंग का मूत्र, शुष्क मुंह और चिड़चिड़ापन शामिल हैं.इसलिए इस मौसम में खुद को हाइड्रेटेड रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहना महत्वपूर्ण है.

गर्मियों में अत्यधिक पसीना आने के कारण वयस्कों में पानी की आवश्यकता 500 मिलीलीटर तक बढ़ जाती है. ये टाइफाइड, पीलिया और दस्त का मौसम भी है. इसके कुछ कारणों में पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना और खराब भोजन, पेयजल और हाथों की स्वच्छता न रखना शामिल है.

लौकी,तोरी,टिंडा,कद्दू आदि गर्मियों की सब्जियां हैं,जो बेलों पर उगती हैं.इन सभी में पानी की मात्रा अधिक होती है.इनका सेवन गर्मियों में जरूर करना चाहिए.

mynews36.com

अधिक ऊंचाई पर रहने वाले व्यक्तियों को भी अधिक पानी पीने की आवश्यकता हो सकती है,क्योंकि हवा में ऑक्सीजन की कमी अधिक तेजी से सांस लेने और श्वसन के दौरान नमी का अधिक नुकसान होने का संकेत देती है.तो नियम यह है कि आपको गर्मी के महीनों में अधिक पानी पीना चाहिए,क्योंकि गर्मी और अतिरिक्त समय बाहर बिताने से तरल का अधिक नुकसान हो सकता है.

कोई भी और सब्जियों का सेवन ना करें, जिन्हें खुला छोड़ दिया गया है.सड़कों पर बिकने वाले गन्ने का रस ना पिएं.सड़क किनारे गिलास में पानी पीने से बचें.

कमरे के तापमान पर 2 घंटे से अधिक समय तक रखा हुआ भोजन ना करें.

mynews36.com

सड़कों पर बिकने वाले खीरे,गाजर,तरबूज आदि का सेवन ना करें,जब तक कि वो पूर्ण स्वच्छ ना हो.

Summary
0 %
User Rating 0 Be the first one !
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Maoists arrested: नक्सली स्मारक ध्वस्त,5 माओवादी भी गिरफ्तार

दंतेवाड़ा MyNews36- छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में डीआरजी (DRG…