डॉ रमन सिंह ना दे नक्सल हमले पर ज्ञान, अपने कुकर्मों को देखो फिर बात करो :- आकाश शर्मा

आज भी हम भूले नहीं हैं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह एवं उनके शिल्पसलाहकार अधिकारियों की शय हुई रानीबोदली, उरपलमेटा, ताइमेटला, राजनांदगांव एवं झीरम घाटी जैसे दर्दनाक घटनाओं को जब प्रदेश ने वीर जवान वीके चौबे जी एवं उन जैसे बहादुर अधिकारी एवं कांग्रेस के नवरत्न नेताओं को खोया था। हमारे लिए प्रदेश में हुई हर नक्सली हत्या का दर्द बराबर है हमसे बेहतर अपनों को खोने का दर्द और कौन समझ सकता है।

आज डॉक्टर रमन सिंह और भाजपा नेता इस दु:खद घटना पर राजनीति टिप्पणियां से अपनी रोटी सेक रही और संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी पर आरोप लगा रहे हैं

डॉ रमन सिंह जी आप यह बताएं 15 वर्ष मैं आपने 4 ब्लॉक के नक्सल क्षेत्रों को पूरे प्रदेश में तब्दील कर दिया आप के नेतृत्व वाली सरकार में बस्तर का अस्तित्व ही गायब होने लगा था यह तो भूपेश बघेल जी के नेतृत्व वाली कांग्रेस की विकास नीति से बस्तर को पुन: पुरातत्व एवं असंग पहचान वापस मिल रहा है
हर घटना और बलिदान का बदला लिया जाएगा चाहे वह हमारे वीर जवान हो कांग्रेस के शहीद नेता हो या अन्य दलों के नेता सब की शहादत का बदला लिया जाएगा हमारी सरकार संवेदनशील और आदिवासी हितेषी सरकार है |

हमारे मुखिया प्रदेश में सर्वांगीण विकास कर रहे हैं खुद को छत्तीसगढ़ महतारी के सेवक कहने वाले डॉक्टर रमन सिंह जी नक्सल हमले के इस माहौल में शहीद परिवार के साथ खड़े होना चाहिए केंद्र के सत्ताधारी दल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष होने के नाते उन्हें शहीदों के परिजनों हेतु सहायता प्रदान करनी चाहिए या ना कि इस तरह की ओछी राजनीति करनी चाहिए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अरे हमारे वीर जवानों ने अपने अदम्य शौर्य से नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब देते हुए दर्जनों नक्सलियों को मौत के घाट उतार दिया, जिनके शवों को लगभग 3 ट्रैक्टर में भरकर एकत्रित किया गया है

Leave A Reply

Your email address will not be published.