Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

ऋतिक को डॉक्टर्स ने कहा था-दोबारा कभी डांस नहीं कर पाओगे

मुसीबतों के बावजूद नहीं छोड़ी प्रैक्टिस

मुंबई- ऋतिक रोशन को लोग उनके निभाये किरदार के साथ-साथ धमाकेदार डांसर के रूप में भी जानते हैं,पर एक वक्त था,जब ऋतिक रोशन को डॉक्टर्स ने कह दिया था कि वे कभी डांस नहीं कर पाएंगे।लेकिन आज उनकी गिनती बॉलीवुड के टॉप डांसर्स में होती है।इंटरनेशनल डांस डे पर बातचीत में ऋतिक ने बताया कि उनकी लाइफ में एक दौर ऐसा भी आया था जब डॉक्टर्स ने कह दिया था कि वे कभी डांस नहीं कर पाएंगे।हालांकि,ऋतिक की मानें तो उन्होंने इस दौर में भी डांस प्रैक्टिस जारी रखी।वे कहते हैं डांस फिट रहने का सबसे बेहतर तरीका है।यह कैलोरीज बर्न करने,मसल्स को मजबूत बनाने,फ्लेक्सिबिलिटी बढ़ाने और खुद को खुश रखने में मदद करता है।मैंने अपनी मां और बच्चों को भी यह सिखाया है और उन्हें यह बहुत पसंद है।

फेल करने की धमकी देते थे क्लास टीचर

ऋतिक रोशन के लिए इमेज परिणाम
mynews36.com

ऋतिक बहुत छोटी उम्र में स्‍कोलियोसिस नाम की बीमारी से जूझ चुके हैं।इसमें इंसान की रीढ़ की हड्डी एक ओर झुक जाती है। 2013 के एक इंटरव्यू में ऋतिक ने कहा था मेरी बेसिक बनावट बहुत ही कमजोर थी।मेरे घुटनों में तकलीफ होती थी और मैं हर सुबह बेहद दर्द के साथ जागता था।मैं सातवीं क्लास में था और कई क्लास मुझे छोड़नी पड़ती थीं।क्लास टीजर कहते थे कि अगर मेरी अटेंडेंस 70 फीसदी से कम रही तो वे मुझे फेल कर देंगे।

ज़रा इन ख़बरों पर भी ग़ौर फरमाएं: CMHO में पदस्थ नोडल अधिकारी को 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा

तलाशते तलाशते फिलॉस्फर बने ऋतिक

ऋतिक में मुताबिक बियॉन्ड द ऑब्वियस का मतलब तलाशते-तलाशते वे फिलॉस्फर बन गए।वे कहते हैं कुछ कार्ड्स थे,जिनसे मुझे जूझना था और अगर मुझे शिकायत होती थी कि मैं कहीं भी नहीं जाने वाला हूं तो मुझे बस उन कार्ड्स को बेहतर तरीके से खेलने का तरीका ढूंढना होता था। मैंने अपनी कमजोरी का विश्लेषण किया और पाया कि प्रैक्टिस,हार्ड वर्क और सबसे जरूरी रिसर्च और खुद को शिक्षित बनाकर काफी कुछ पाया जा सकता है।इसकी वजह से मुझे हेल्थ और फिटनेस पर काफी ज्ञान प्राप्त हुआ।आप जिंदगी में जो भी कर पाते हो,वह अनुभव से ही आता है। इन्हीं अनुभवों ने मुझे वह इंसान बनाया,जो आज मैं हूं।

दर्द एक चीज़ है और सफरिंग एक अलग चीज़

ऋतिक आगे कहते हैं दर्द एक चीज है और सफरिंग एक अलग चीज।सफरिंग दिमाग में होती है।एक बार जब आप इससे अलग हो जाते हैं तो दर्द को हैंडल कर सकते हैं।आप इसे दोस्त बना लीजिए,यह आपको जटिल और मजबूत बनाने में मदद करता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.