अगर कोई आपको इग्नोर (नजरअंदाज) करता है, तो दुःख तो होता है। हम सभी चाहते हैं कि हमारे आसपास मौजूद लोग हमें प्यार करें, हमारा सम्मान करें और परवाह भी करें।हालांकि सभी के साथ आपका रिश्ता एक जैसा नहीं हो सकता है।लेकिन अगर आप बहुत ज्यादा अकेलापन महसूस करते हैं,आपके दोस्त कम हैं या आपका अक्सर लोगों से झगड़ा होता रहता है,तो ये इस बात का संकेत है कि आपमें ही कोई कमी है।लोगों के द्वारा आपको नजरअंदाज किए जाने के कई कारण हो सकते हैं- जिसमें आपका रूप, रंग, आर्थिक स्थिति, स्वास्थ्य से लेकर आपके स्वभाव तक बहुत सारी बातें शामिल हैं।इस आर्टिकल में हम आपको स्वभाव से जुड़ी ऐसी 5 बातें बता रहे हैं, जिसके कारण लोग आपको नजरअंदाज करते हैं और आपसे दोस्ती करना पसंद नहीं करते हैं।

शायद आप सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं

दोस्ती साथ निभाने का नाम होता है। अगर आप हर समय सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं और दोस्तों का नुकसान करके भी अपना फायदा देखते हैं, तो आपके दोस्त बनना मुश्किल है।अपने बारे में सोचना सही है, मगर कई बार आपको दूसरों के लिए भी सोचना चाहिए और उनकी मदद के लिए आगे आना चाहिए। मदद करने वाले लोगों के दोस्त बहुत आसानी से और जल्दी बनते हैं।

आप लोगों से पैसे उधार मांगते हैं

ये बात पढ़कर आपको हंसी आ सकती है, लेकिन पैसा एक बड़ी वजह है, जिसके कारण बहुत सारे लोगों की दोस्ती टूट जाती है। अगर आप अक्सर अपने दोस्तों से पैसे मांगते हैं और उनकी जरूरत के समय उन्हें नहीं वापस कर पाते हैं, तो जल्द ही आपके दोस्त आपसे किनारा करने लगते हैं और आपकी बातों को नजरअंदाज करने लगते हैं। दोस्तों की मदद मांगना ठीक है, लेकिन जरूरत के समय आपको उनकी मदद के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

शायद आपके बोलने का तरीका सही न हो

अक्सर लोग ऐसे व्यक्ति से दोस्ती करने से कतराते हैं, जिनकी जबान कड़वी होती है। जबान कड़वी होने का अर्थ गाली देना नहीं है, बल्कि किसी को असम्मानित महसूस करने वाले शब्द बोलना या उसका मजाक उड़ाना है। बहुत सारे लोग कूल दिखने के चक्कर में ऐसी हरकतें करते हैं, जिससे उनकी दोस्ती किसी भी व्यक्ति से लंबे समय तक नहीं टिक पाती है। इसके अलावा कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो इतनी बोरिंग और संदर्भहीन बातें करते हैं, जिससे कि लोग उन्हें नजरअंदाज करने लगते हैं।

शायद आप हर समय निगेटिविटी से भरे रहते हैं

मुंह हमेशा सिकुड़ा हुआ और आंखें उदास सी हों, तो ऐसे व्यक्ति से कोई दोस्ती नहीं करना चाहेगा। इस बात का मतलब आपके बाहरी रूप से नहीं है, बल्कि कई बार देखा जाता है कि लोग नकारात्मकता यानी निगेटिविटी से इतने भरे होते हैं कि उनका मुंह ही निराश मुद्रा में रहता है। किसी भी अंजान शख्स से दोस्ती करते समय सबसे पहली चीज आपकी एनर्जी, बोलने की कला, सकारात्मकता और पॉजिटिव एटीट्यूड काम आता है। इसलिए अगर आप निगेटिविटी से भरे हैं, तो कोई भी आपका दोस्त नहीं बनना चाहेगा।

शायद आपकी अपेक्षाएं ज्यादा हों

अक्सर इंटरनेट पर दोस्ती करने वाले लोगों, खासकर लड़की और लड़कों के मामले में ये देखने में आता है कि गलत अपेक्षाओं के कारण या तो दोस्ती शुरुआत में ही टूट जाती है या फिर कुछ समय बाद उसमें कड़वाहट आनी शुरू हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

Director & CEO - MANISH KUMAR SAHU , Mobile Number- 9111780001, Chief Editor- PARAMJEET SINGH NETAM, Mobile Number- 7415873787, Office Address- Chopra Colony, Mahaveer Nagar Raipur (C.G)PIN Code- 492001, Email- wmynews36@gmail.com & manishsahunews36@gmail.com