वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक ने कहा कि कोवैक्सिन का टीका लगवाने के बाद पैरासिटामोल या पेन किलर का इस्तेमाल जरूरी नहीं है। कंपनी ने बयान जारी कर कहा, ‘पता चला है कि कई केंद्रों पर लोगों को वैक्सीन लेने के बाद 500 मिलीग्राम के पैररासिटामोल या दर्द निवारक लेने की सलाह दी जा रही है। यह गलत है।’

पैरासिटामोल की जरूरत नहीं

भारत बायोटेक ने कहा कि कोवैक्सीन लेने के बाद इस तरह की दवा लेने की जरूरत नहीं है। कंपनी ने बताया कि कोरोना की अन्य वैक्सीन के लिए पैरासिटामोल लेने की सिफारिश की गई है, लेकिन कोवैक्सीन के लिए नहीं है। गौरतलब है कि 15 से 18 साल के आयु वर्ग के बच्चों के लिए वैक्सीनेशन अभियान 3 जनवरी से शुरू हो गया है। फिलहाल इस उम्र वालों को कोवैक्सिन लगाई जा रही है।

10-20% लोगों में साइड इफेक्ट

बायोटेक ने कहा कि 30 हजार व्यक्तियों के प्रतिदिन टेस्ट हो रहे हैं। 10-20% लोगों में साइड इफेक्ट का पता चला है। इनमें से अधिकांश माइल्ड होते हैं। एक से दो दिनों के अंतर स्वस्थ्य हो जाते हैं। दवा लेने की आवश्यकता नहीं होती। डॉक्टर से परामर्श करने के बाद मेडिसिन की सिफारिश की जाती है। अन्य कोविड-19 वैक्सीन के साथ पैरासिटामोल लेने को कहा जा रहा है। यह कोवैक्सिन लेने वालों के लिए नहीं है।

भारत में कोरोना की स्थिति

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि देश में अब तक 2135 ओमिक्रोन के केस सामने आए हैं। जिनमें 828 रिकवर हो गए। देश में 18 वर्ष से अधिक आयु की 90.8 प्रतिशत जनसंख्या को वैक्सीन की पहली डोज और दूसरी खुराक 65.9 प्रतिशत जनसंख्या को लगाई गई है। अग्रवाल ने कहा, ‘महाराष्ट्र में सप्ताह के आधार पर सक्रिय मामलों में 4 गुणा बढ़ोतरी हुई है। बंगाल में सक्रिय मामलों में 3.4 गुणा और दिल्ली में 9 गुणा वृद्धि हुई है।’ उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह दो प्रदेश ऐसे थे, जहां एक्टिव केस दस हजार से अधिक थे। अब ऐसे राज्य बढ़कर छह हो गए हैं। दो राज्यों में 5-10 हजार सक्रिय मामले हैं। पिछले 24 घंटों में देश में 58,097 मामले दर्ज किए गए हैं।

ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए इस लिंक – https://chat.whatsapp.com/J8M6x3aju1UG3WjGzAlrd3 को क्लिक कर हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े।

ये भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published.