Divorce

रायपुर-आज के समय में ना सिर्फ पुरुष बल्कि महिलाएं भी पूरी तरह से आत्मनिर्भर हो गई हैं।ऐसे में कहीं न कहीं ये आत्मनिर्भरता तलाक एक बड़ी वजह बन रही है।पहले के समय में होने वाले तलाक के कारण और आज के समय के तलाक के कारणों में जमीन-आसमान का अंतर है। पहले जहां दहेज की मांग,पति की प्रताड़ना,घर जमाई बनने का प्रेशर और सास-बहु की खिचपिट तलाक की वजहें बनती थी।

वहीं,आज किचन के छोटे-छोटे काम,आपसी अनबन,लेट नाइट पार्टी और पर्सनल स्पेस तलाक की बड़ी वजहें बन रहे हैं।हाल ही में हुए एक सर्वे में साफ हुआ है कि कई बार कपल्स जोश में आकर तलाक ले लेते हैं,लेकिन बाद में उन्हें अपने इस फैसले पर पछताना पड़ता है।जबकि कुछ लोग इतने साल साथ में रहने के बाद भी अपने पार्टनर की शक्ल देखना तक पसंद नहीं करते हैं।वहीं,कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो तलाक के बाद अपने एक्स पार्टनर के साथ दोस्ती भरा रिश्ता रखना चाहते हैं।लेकिन उन्हें इसका रास्ता नहीं पता होता है।आज हम आपको तलाक के बाद भी पार्टनर से दोस्ती का रिश्ता रखने की सेलेब्रिटी टिप्स बता रहे हैं।

तलाक के बाद भी दोस्त हैं ये सेलेब्स

मालाइका अरोड़ा खान और अरबाज खान
आमिर खान और रीना दत्‍ता
कल्कि कोचलिन और अनुराग कश्यप
रितिक रोशन और सुजैन खान
रघुराम और सुगंधा

तलाक से बचाती हैं ये अच्छी आदतें

अगर आपको लगता है कि-आपके पार्टनर की जिंदगी में कोई और व्यक्ति है।जिससे वो आप पर ध्यान नहीं दे रहा है और रिश्ता तलाक तक पहुंच गया है तो आप अपने पार्टनर के साथ बैठकर आराम से बात करें।नफरत को सिर्फ प्यार ही खत्म कर सकता है।

वास्तु के अनुसार श्रवण के महीने में 11 व्रत रखने से पति-पत्नी के रिश्ते मजबूत होते हैं।

अगर आपने अपनी मर्जी से अपने पार्टनर को तलाक दिया है और अब आपको उस बात पर अफासोस है तो आप एक बार इस बारे में अपने जीवनसाथी से बात जरूर करें। हो सकता है कि वो भी आपकी तरह ही सोच रहा हो। बस पहल करने में थोड़ा हिचक रहा हो।

पति पत्नी का रिश्ता इतना मजबूत होता है कि उसमें किसी भी इगो नहीं आना चाहिए।

कहते हैं शिवजी सबसे दयालु भगवान होते हैं। नियमित उनकी पूजा और सोमवार के 16 व्रत रखने से हर मनोकामना पूरी होती है।

अगर आपके तलाक में कुछ ही दिन बचे हैं और आपको समझ नहीं आ रहा कि अब क्या करें तो आप सबसे पहले अपने पति के परिवार के लोगों को खुश करना शुरू करें। ऐसा करने से उन्हें लगेगा कि जो हो रहा है वो सही नहीं है।

कुछ दिनों तक अपने पार्टनर को रोकना टोकना बंद कर दें। इससे उसे थोड़ा स्पेस मिलेगा और हो सकता है उसे ये अहसास हो कि उसका फैसला गलत है।

कई बार हम बचकानी हरकतों से भी रिश्ते को तलाक तक पहुंचा देते हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो इस बार में अपने माता पिता और सास-सासुर को एक साथ बैठाकर सारी बातें उनके सामने रखें और राय लें। शादी के रिश्ते को आसानी से नहीं तोड़ना चाहिए।

तलाक के बाद हो सकते हैं ये शारीरिक बदलाव

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ के अनुसार तलाक जैसे मुश्किल दौर में अधिक तनाव हो जाना और फिर इसके अवसाद का रूप ले लेने का जोखिम हमेशा ही बना रहता है। वहीं महिलाएं के इस दौरान मूड डिसॉर्डर काशिकार होने की आशंका अधिक होती है।

कई सर्वे में साफ हो चुका है कि तलाक से गुज़र रहे लोगों को तनाव हो जाना सामन्य सी बात होती है। तनाव के कारण लोग में सामान्य से ज्यादा भोजन करने की आदत लग जाना देखा जा सकता है। जिसके चलते वह ठीक से पचता भी नहीं है। जिसके चलते वज़न का बढ़ जाना भी लाज़मी होता है।

तलाक की प्रक्रिया से गुज़र रहे कई लोगों ने बताया कि इस दौरान उन्हें जुकाम, बुखार जैसी छोटी-मोटी संक्रामक बीमारियां आसानी से अपनी चपेट में ले लेती थीं। कई मैरिज काउंसलर भी इस बात पर अपनी सहमती देते हैं।

तलाक के सबसे त्वरित दुष्प्रभावों में नींद न आने की समस्या प्रमुख रूप से देखी जा सकती है।क्योंकि यह समस्या किसी विशेष समय अवधी के लिए होती है, विशेषज्ञ इस तरह के इंसोमेनिया को ‘सेकंड्री इंसोमेनियाय’ पुकारते हैं।

Summary
0 %
User Rating 5 ( 1 votes)
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In लाइफस्टाइल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Transfer :तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के स्थानांतरण आदेश जारी

जिले में 12 विभागों के कर्मचारियों का हुआ तबादला कांकेर-उत्तर बस्तर कांकेर 16 जुलाई 2019- …