घुमका क्षेत्र में धड़ल्ले से अवैध मुरुम खनन जारी,खनिज विभाग बेखबर

राजनांदगांव MyNews36 प्रतिनिधि- एशियन डेवलपमेंट बैंक(एडीबी) की ओर से भरदाखुर्द-मुड़पार होकर दुर्ग जिले की सीमा तक सड़क चौड़ीकरण मजबूतीकरण योजना के तहत बनाई जा रही है।सड़क निर्माण में अवैध खनन के मुरुम को लेकर ठेकेदार और निर्माण एजेंसी(ए डी बी) पर करोड़ों के अवैध मुरुम डालने का आरोप क्षेत्र के ग्रामीणों द्वारा लगाया जा रहा है।

ज्ञात हो कि घुमका क्षेत्र में पूर्व में बनाई गई तमाम सड़कों से लेकर वर्तमान में चल रहे सड़कों के निर्माण में शुरू से करोड़ों रुपये के मुरुम के अवैध खनन को लेकर आवाज़ें उठाई गई।परन्तु,खनिज विभाग द्वारा अब तक किसी भी मामले में ठोस कार्यवाही नहीं की गई।जिससे ठेकेदार बगैर रॉयल्टी के करोड़ों रुपये का मुरुम खोदकर खनिज विभाग समेत पंचायतों को चुना लगा चुके हैं। वर्तमान में भरदाखुर्द से चिखली दुर्ग तक बन रहे सड़क में गिधवा, मुड़पार, भरदाखुर्द और घुमका से भी बेतहाशा मुरुम की खुदाई की जा रही है।

सुत्रों के मुताबिक किसी भी खनन के लिए खनिज विभाग की ओर से रॉयल्टी पर्ची जारी नहीं किया जाना बताया जा रहा है।अलबत्ता नाहर कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने गिधवा पंचायत को झांसा देकर मुरूम खनन के लिए प्रस्ताव पत्र लिया है कि पंचायत को रॉयल्टी भुगतान किया जायेगा।परन्तु गिधवा पंचायत को फूटी कौड़ी भुगतान नहीं किया गया है।वास्तव में पंचायत को खनन के लिए लीज़ पर देने या रॉयल्टी पर्ची जारी करने का अधिकार भी नहीं है।ऐसी स्थिति में केवल जागरूक ग्रामीणों को चुप कराने मात्र के लिए पंचायत प्रस्ताव के आड़ में करोड़ों रुपये के मुरुम चोरी का खेल खेला जा रहा है और खनिज विभाग को खबर तक नहीं है।

पूर्व में इसी कम्पनी द्वारा कलडबरी बरबसपुर पटेवा सड़क निर्माण में भी मुरुम उत्खनन को लेकर जांच जरूरी बताया जा रहा है चूंकि शासन के निर्धारित शर्तो के अनुसार तमाम निर्माण कार्यों खासकर सड़क निर्माण में प्रयुक्त मुरुम, गिट्टियां और अन्य गौण खनिजों निर्धारित एवं आवश्यक मात्रा में प्रयुक्त खनिजों की रॉयल्टी राशि जमा करना आवश्यक है।परन्तु सवाल यह उठता है कि उक्त राशि आखिर खनिज विभाग के माध्यम से सम्बंधित पंचायतों को हस्तांतरित कैसे हो जबकि वैध खदान क्षेत्र या रॉयल्टी पर्ची का अता पता नहीं है।कुल मिलाकर सड़क निर्माण में करोड़ों रुपये के चोरी के मुरुम खपाने के मामले की बारीकियों से जांच जरूरी है।

इसी प्रकार घुमका में भी कई शासकीय जमीनों से अब तक बेतहाशा मुरुम खनन कर करोड़ों रुपये की रॉयल्टी चोरी चल रही है और गाहे बगाहे शिकवा शिकायतों से बचने माफियाओं द्वारा निजी जमीन से लगातार मुरुम के अवैध खनन का काम बेरोकटोक चल रहा है जबकि मुरुम खनन स्थल के आसपास प्राचीन एवँ दुर्लभ मूर्तियों मिल चुकी है तथा बीते कुछ साल पहले तालाब गहरीकरण के समय अति प्राचीन शुद्ध सोने के सिक्के मिलने के बाद तत्कालीन कलेक्टर मुकेश बंसल ने प्रशासन की अनुमति बगैर आसपास खुदाई नही करने का सख्त निर्देश जारी कर कड़ी कार्यवाही की चेतावनी भी दिया था।

सड़क निर्माण में मिट्टी की जरूरत होती है वो लोग मुरुम कैसे उपयोग कर रहे है पता नही और हम इसमें कुछ नही कर पाएंगे ये खनिज विभाग का काम है।

एस के सोरी,परियोजना प्रबंधक एडीबी

MyNews36 प्रतिनिधि मुबारक खान की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Director & CEO - MANISH KUMAR SAHU , Mobile Number- 9111780001, Chief Editor- PARAMJEET SINGH NETAM, Mobile Number- 7415873787, Office Address- Chopra Colony, Mahaveer Nagar Raipur (C.G)PIN Code- 492001, Email- wmynews36@gmail.com & manishsahunews36@gmail.com