भारत का पड़ोसी चीन लगातार खुद को मजबूत कर रहा है, चीन लगातार अपने रक्षा बजट में बढ़ोतरी कर रहा है। चीन की शी जिनपिंग सरकार ने आज अपना बजट पेश किया है और इस बजट में चीन ने रक्षा बजट में काफी बढ़ोत्तरी की है।

भारत का पड़ोसी चीन लगातार खुद को मजबूत कर रहा है, चीन लगातार अपने रक्षा बजट में बढ़ोतरी कर रहा है। चीन की शी जिनपिंग सरकार ने आज अपना बजट पेश किया है और इस बजट में चीन ने रक्षा बजट में काफी बढ़ोत्तरी की है। जानकारी के मुताबिक चीन ने अपने रक्षा खर्च में 7.1 फीसदी की बढ़ोतरी की है। शी जिनपिंग ने रक्षा बजट में 17.57 लाख करोड़ रुपए का प्रस्ताव रखा है। यह बजट भारत से तीन गुना से ज्यादा है। भारत का रक्षा बजट साल 2022 के लिए 5.25 लाख करोड़ है।

चीन सरकार की रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन 2022 में सैन्य शिक्षा और युद्ध प्रशिक्षण को बढ़ावा देगा। एक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन के पास अब संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सैन्य बजट होगा और वह परमाणु-सक्षम मिसाइलों और अन्य हथियारों में तेजी से निवेश कर रहा है।

चीन ने बीते साल मार्च 2021 में अपने रक्षा बजट में 6.8 फीसदी की बढ़ोतरी की थी। चीन ने 15.57 लाख करोड़ का रक्षा बजट रखा था। इसमें खास बात यह है कि कोरोना महामारी के बावजूद चीन ने अपने रक्षा बजट में काफी ज्यादा बढ़ोतरी की है। मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि इस पैसे का इस्तेमाल चीनी सेना के आधुनिकीकरण को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा। चीन के राष्ट्रपति शी जिंनफिग का इरादा सेना को और अधिक उन्नत हथियारों और उपकरणों से लैस करने का है।

दुनिया में सबसे अधिक रक्षा बजट की बात करें तो अमेरिका इसमें अव्वल है। अमेरिका का रक्षा बजट हमेशा ही अन्य देशों की तुलना में सबसे ज्यादा रहता है। चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने साल 2022 का रक्षा बजट बढ़ाकर 768.2 अरब करने का ऐलान कर दिया है। वहीं चीन का बढ़ता रक्षा बजट पड़ोसी भारत के लिए भी खतरे की घंटी हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.