children cold save

रायपुर – वयस्कों की तुलना में बच्चे फ्लू की चपेट में आसानी से आ जाते हैं।तेज सांस लेना या सांस लेने में तकलीफ,होंठों या चेहरे पर दर्द, सीने में दर्द,प्रत्येक सांस के साथ पसलियों में खिंचाव,गंभीर मांसपेशियों में दर्द,निर्जलीकरण,बुखार या खांसी बढ़ जाती है,लेकिन यह समस्‍या एक बार होने के बाद जब दोबारा आती है तो स्थिति और खराब हो जाती है।इसलिए इस फ्लू के मौसम के लिए अपने बच्‍चों को तैयार करना वास्तव में महत्वपूर्ण हो जाता है।

फ्लू के मौसम के लिए अपने बच्चों को तैयार करने के 5 तरीके

सही खानपान

वयस्क हो या बच्चे,स्वस्थ भोजन सभी के बहुत महत्वपूर्ण है।आप जो कुछ भी खाते हैं वह सीधे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है। भोजन करते समय बच्चे बहुत चयनात्मक होते हैं लेकिन माता-पिता होने के नाते आप वास्तव में अपने बच्चे को बीमार नहीं देखना चाहते हैं। तो अपने बच्चे को एक स्वस्थ भोजन प्रदान करने से न केवल उन्हें ध्यान केंद्रित करने के लिए पर्याप्त ऊर्जा मिलती है बल्कि इससे उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। इसलिए अपने भोजन को हेल्‍दी बनाएं, जंक फूड को हेल्दी फूड में बदलें।

हाथों को साफ रखें

कीटाणुओं को फैलने से रोकने का एक सबसे अच्छा तरीका है हैंड वॉश।बच्चों को स्वस्थ आदतों का पालन करना वास्तव में कठिन है लेकिन बीमारियों से बचाने के लिए यह महत्वपूर्ण है।सुनिश्चित करें कि जब भी आपके बच्चे स्कूल से लौटते हैं तो वे अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं और कीटाणुओं को खत्म करें।जब वे स्कूल या पिकनिक के लिए बाहर होते हैं तो उन्हें एक सैनिटाइज़र दे सकते हैं ताकि वे बाहर भी कीटाणु मुक्त रह सकें।खाने से पहले और बाद में हाथ धोने से जुकाम, फ्लू और अन्य संक्रमण होने के कीटाणुओं के होने का खतरा कम हो सकता है।

अच्छी नींद

माता-पिता और बच्चों दोनों के लिए उचित शारीरिक आराम महत्वपूर्ण है।अच्छी सेहत के लिए नींद जरूरी है।अपने बच्चों को जल्दी बिस्तर पर लाएं ताकि वे तनाव मुक्त और सुबह फ्रेश फील कर सकें। इससे आपको भी लाभ होगा।विभिन्न अध्ययन बताते हैं कि,आपके बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली पर नींद का बड़ा प्रभाव पड़ता है। नींद की पर्याप्त मात्रा बीमारी से लड़ने में मदद करती है।

इसे भी पढ़ें: ब्रेकअप के कारण तनाव में हैं, तो इन 4 तरीकों से पाएं निजात

स्वस्थ आदतें अपनाएं

यदि आपके बीमार हैं तो हमेशा उन्हें खांसने या छींकने पर नाक और मुंह रूमाल से कवर करनें की सीख दें।इस तरह की आदतें दूसरों को बीमार होने से रोकने में मदद कर सकती हैं। श्वसन संबंधी बीमारियां जैसे फ्लू या सामान्य सर्दी हर छींक में फैल जाती हैं और लंबे समय तक हवा में रहती हैं। इसलिए अपने बच्चों को इस तरह की आदतें सिखाएं जिससे अन्य लोगों के साथ-साथ आपके बच्चे भी बीमार पड़ने से बचें।

इसे भी पढ़ें: किचन में छुपा है अरबपति बनने का राज,रसोई में तवे को ऐसे रखें आज,जानिए ख़ास बात

स्कूल जाते समय चेहरा छूने से बचें

सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (सीडीसी) के अनुसार, शोध से पता चलता है कि छात्रों का स्वास्थ्य उनकी शैक्षणिक उपलब्धि से जुड़ा हुआ है। बच्चे वास्तव में लापरवाह हैं और स्कूल में एक-दूसरे को परेशान करने की उनकी आदत असाधारण है। अपने बच्चों से कहें कि वे स्कूल में एक-दूसरे के चेहरे को छूने से बचें क्योंकि यह दूसरे व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है।

Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In लाइफस्टाइल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Mataragashtee:स्मार्ट सिटी“मटरगश्ती”में जमकर हुआ फिटनेस सेलिब्रेशन

रायपुर। कटोरा तालाब उद्यान में रायपुरियन्स ने रायपुर स्मार्ट सिटी के फन और फिटनेस के साप्त…