मुख्यमंत्री बघेल ने मंत्रीगणों सहित अधिक संक्रमित वाले जिलों के अधिकारियों के साथ बैठक लेकर कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा की

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विगत दिवस अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल बैठक में विधानसभा अध्यक्ष तथा मंत्रीगणों सहित अधिक संक्रमित वाले जिलों के अधिकारियों के साथ चर्चा करते हुए कोरोना संक्रमण की स्थिति के बारे में विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने कहा कि राज्य में वर्तमान में कोरोना संक्रमण की स्थिति को ध्यान में रखते हुए शादी-ब्याह और दशगात्र के सामाजिक कार्यक्रम में 10 से अधिक लोगों शामिल होने की अनुमति नही दी जाए। सभी कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक यह सुनिश्चित करें कि इनमें निर्धारित संख्या से अधिक लोग शामिल न हो। उन्होंने इसके लिए सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को अपने-अपने जिले में होने वाले इन कार्यक्रमों पर सख्त निगरानी रखने के निर्देश दिए है।

साथ ही वहां कार्यक्रमों में कोविड अनुकूल व्यवहार का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने भी कहा। उन्होंने कहा कि इसके पालन के लिए वे अपने क्षेत्र अंतर्गत समाज प्रमुखों की बैठक लेकर आवश्यक समझाईश दें कि इन कार्यक्रमों में निर्धारित संख्या से अधिक लोग शामिल न हों। उन्होंने इस हेतु स्थानीय कर्मचारियों के माध्यम से गांव में कड़ी निगरानी सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया।बैठक में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत सहित स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चैबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल तथा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जुड़े थे।

इस अवसर पर मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य डॉ. आलोक शुक्ला तथा मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी एवं जशपुर जिले से संभागायुक्त जिनेविवा किंडो, पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा आर. पी. साय, कलेक्टर महादेव कावरे, पुलिस अधीक्षक बालाजी राव, सीईओ जिला पंचायत श्री के.एस. मंडावी, सीएमएचओ श्री पी. सुथार उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री बघेल ने चर्चा करते हुए राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों, अंतर्राज्यीय सीमाओं तथा बाहर से आने वाले लोगों की जांच के लिए सख्त निगरानी रखने के निर्देश दिए। साथ ही वहां कोरोना से बचाव की गाईडलाईन का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराने के संबंध में निर्देशित किया। कोरोना संक्रमित वाले व्यक्ति के पूरे परिवार को कोरोना की दवा तत्काल उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक निर्देश दिए। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण महत्वपूर्ण है। इसे ध्यान में रखते हुए उन्होंने सभी कलेक्टरों को अपने-अपने जिले में टीकाकरण के कार्य को विशेष गति के साथ चलाए जाने के निर्देश दिए। इसके लिए लोगों को अधिक से अधिक प्रेरित करने के लिए भी कहा।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने कहा कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीनेशन कार्य के लिए विशेष जोर दिया। इसी तरह स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने टेस्टिंग तथा ट्रेसिंग को बढ़ाने, गृह मंत्री साहू ने शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था, कृषि मंत्री चैबे और वन मंत्री अकबर ने कोविड-19 के गाइडलाइन का पालन करने पर जोर दिया।

मुख्यमंत्री बघेल ने जशपुर जिले के अधिकारियों से जिले में कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर, बिस्तर की उपलब्धता, संक्रमण के नियंत्रण हेतु किये जा रही कार्यवाही, एवं आगामी कार्य योजना सहित अन्य बिन्दुओ पर समीक्षा की गई। श्री बघेल ने जिले के सभी बेरियर पर सख्ती बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बिना स्वास्थ्य परीक्षण के किसी को भी जिले में प्रवेश न होने दिया जाए। मुख्यमंत्री श्री बघेल को जिले की स्थिति के सम्बंध में जानकारी देते हुए कलेक्टर कावरे ने बताया कि वर्तमान में जिले में कोरोना पॉजिटिविटी की दर घटकर 18 प्रतिशत हो गयी है। इसे और कम करने के लिए जिला प्रशासन सतत प्रयासरत है। उन्होंने बताया कि जिले में संक्रमितों के इलाज के लिए बिस्तर पर्याप्त उपलब्ध है।

जिले में 1190 बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। जिसके अंतर्गत 07 मई की स्थिति में 533 मरीजो का उपचार किया जा रहा है एवं 657 बिस्तर रिक्त है। साथ ही अतिरिक्त कोविड केयर सेंटर की भी व्यवस्था की जा रही है। साथ ही जिले में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट का भी शुभारंभ हो गया है।

इसी प्रकार कावरे ने आगामी कार्ययोजना की जानकारी देते हुए बताया कि जिले में जल्द ही आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए वायरोलॉजी लैब को प्रारंभ किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं की विस्तार के लिए 11 एम्बुलेंस, सीटी स्कैन मशीन, एवं 600 अतिरिक्त ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था के लिए प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। जिले के लोदाम, लवाकेरा, सिंघीबहार सहित अन्य सीमावर्ती बैरियरों पर आने वाले सभी लोगो का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है एवं उनकी सम्पूर्ण जानकरी पंजीकृत की जा रही है। कलेक्टर ने बताया कि जिले में लॉक डाउन के दौरान से ही शादी, दशगात्र सहित अन्य सामाजिक कार्यक्रमो में केवल 10 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति दी जा रही है। साथ ही नियमो का पालन न करने वालो पर दंडात्मक कार्यवाही भी किया गया है।

कावरे ने बताया कि पात्र हितग्राहियो का प्राथमिकता से टीका लगाया जा रहा है। एवं राज्य सरकार से मिली नई गाईड लाइन के अनुसार एपीएल, बीपीएल एवं अंत्योदय कार्डधारियो को पुनः टीकाकरण के लिए विशेष कार्ययोजना तैयार कर योजना को मूर्त रूप दिया जाएगा। इस हेतु आवश्यक व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.