कोरोना वायरस का बदलता स्वरूप: इस पर बिल गेट्स ने बताईं ये 5 जरूरी बातें……

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में दुनिया ने एक लंबा सफर तय किया है, लेकिन कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए पूरी दुनिया ने अभी तक जो प्रयास किए हैं उसके लिए कोविड- 19 का नया वेरिएंट एक खतरा बन सकता है। यह बात  माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर बिल गेट्स ने गुरुवार को प्रकाशित अपने ‘गेट्स नोट्स’ में लिखी है। 

गेट्स लिखते हैं, कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए गत एक वर्ष से मैं विशेषज्ञों के साथ मीटिंग्स कर रहा हूं। प्रत्येक मीटिंग में एक्सपर्ट्स द्वारा केवल एक ही सवाल पूछा जा रहा है – कोरोना के नए वेरिएंट्स हमारे महामारी को समाप्त करने के प्रयासों को कैसे प्रभावित करेंगे? अगर आप भी यह समझना चाहते हैं तो आपके लिए वेरिएंट्स के बारे में यह पांच चीजें जानना जरूरी हैं।

बदलते वेरिएंट के हिसाब से वैक्सीन को अपडेट करना जरूरी

यदि आपने वैक्सीन का डोज लगवा लिया है तो इसका मतलब है आप कोरोना वायरस के एक वेरिएंट से लड़ चुके हैं। वायरस हर समय अपना रूप बदलता और विकसित करता रहता है।इसलिए जरूरी है कि हम हर साल बदलते वेरिएंट के हिसाब से अपनी वैक्सीन को भी अपडेट करते रहें। 

कोविड-19 के विकसित होने की दर अन्य इन्फ्लूएंजा वायरस की तुलना में आधी

हर प्रकार के वायरस बदलते और विकसित होते हैं। लेकिन सभी वायरस एक ही दर और समान तरीके से विकसित नहीं होते हैं।कुछ फ्लू तेजी से बदलते हैं।दूसरे धीरे-धीरे विकसित होते हैं।सौभाग्य से, कोविड-19 के विकसित होने की दर अन्य इन्फ्लूएंजा वायरस की तुलना में आधी है।
 
हम प्रतिदिन कोई-न-कोई नए वेरिएंट के बारे में सुन रहे हैं।दरअसल यह वायरस दुनिया भर में फैला हुआ है, जिसकी वजह से इसे विकसित होने और बदलने के लिए अधिक समय मिल रहा है।संक्रमण के मामलों में गिरावट आने के बाद, संभवत: नए वेरिएंट्स का विकास धीमा हो जाएगा। कुछ विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि हम कोरोना वायरस के सबसे खतरनाक वेरिएंट से लड़ चुके हैं।हालांकि कोविड-19 ने हमें इससे पहले भी आश्चर्यचकित किया है, और यह हमें फिर से आश्चर्यचकित कर सकता है।

वायरस बदल रहा है, लेकिन महामारी को समाप्त करने का यह है इकलौता मार्ग

अच्छी खबर यह है कि आज दुनिया भर में इस्तेमाल किए जाने वाले कई टीके गंभीर बीमारी को रोकने में सफल होते दिखाई दे रहे हैं। कुछ टीके तो नए वेरिएंट्स पर भी काम कर रहे हैं। हालांकि प्रत्येक वैक्सीन विभिन्न वेरिएंट के मुकाबले कितना प्रभावी है, यह जानने के लिए और अधिक आंकड़ों की आवश्यकता है। लेकिन शुरुआती आंकड़ें काफी प्रभावशाली हैं।
 
अब बड़ा सवाल यह है कि क्या हमें वेरिएंट्स को समाप्त करने के लिए टीकों को अपडेट करने की आवश्यकता है? नियामक और दवा कंपनियां संशोधित वैक्सीन पर काम कर रही हैं। यदि आवश्यकता होगी तो यह एक दो महीने में मार्केट में आ सकती है। यहां संयुक्त राज्य अमेरिका में – जहां अधिकांश लोगों को संभवतः गर्मियों के अंत तक टीका लग जाएगा वहीं कुछ लोगों को एक बूस्टर शॉट भी  मिल सकता है जो अतिरिक्त वेरिएंट से हमारी सुरक्षा करेगा।
 
नए वेरिएंट को उभरने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका वायरस के संचरण को पूरी तरह से रोकना है। अगर हम सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और टीकाकरण के बारे में सतर्क रहते हैं, तो हम महामारी को बहुत जल्द खत्म कर सकते हैं।

दुनिया के किसी भी कोने में वायरस की मौजूदगी बन सकती है पूरी दुनिया के लिए खतरा

कोरोना के नए वेरिएंट्स की वजह से यह और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया है कि वैक्सीन हर जगह उपलब्ध हो। कहीं भी कोविड-19 की मौजूदगी होना, पूरी दुनिया के स्वास्थ्य के लिए खतरा है। इसलिए यह जरूरी है कि हर जगह कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए। यदि हम पृथ्वी के हर कोने तक वैक्सीन नहीं पहुंचाते हैं, तो हमें इस संभावना के साथ रहना होगा कि वायरस का एक बहुत खतरनाक वेरिएंट सामने आ सकता है या फिर हम एक नया संस्करण भी देख सकते हैं।

हमारे प्रयासों को कोरोना के नए वेरिएंट बना रहे हैं जटिल

इसमें कोई संदेह नहीं है कि वेरिएंट इस महामारी को समाप्त करने के हमारे प्रयासों को जटिल बना रहे हैं। लेकिन अच्छी बात यह है कि हम जानते हैं कि वायरस को खत्म करने के लिए हमें क्या करने की आवश्यकता है। अभी के लिए, आप अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करें और जल्द से जल्द कोरोना की वैक्सीन लगवाएं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.