कोंडागाँव MyNews36 प्रतिनिधि- राज्य पुलिस सेवा में अपनी सेवाए दे रहे कपिल चंद्रा की एक शोध पत्र का प्रकाशन यूएसए के जर्नल में किया गया है। पहले यह माना जाता था कि ब्लैक होल में सब कुछ समा जाता है कोई चीज़ बाहर नही निकल सकती है फिर क्वांटम भौतिकी में यह मामला सामने आया की क्वांटम प्रभाव के कारण से हर ब्लैक होल का एक निश्चित तापमान होता है और इस ताप के कारण से कुछ ना कुछ कण विकिरण के रूप में निकलते रहते है और अंत में ब्लैक होल का विस्फोट हो जाता है, जिससे ब्रम्हाण्ड के समस्त पदार्थों का निर्माण होता है।

शोध पत्र का प्रकाशन हुआ है यूएसए के जर्नल में

कपिल चंद्रा द्वारा एक शोध पत्र का प्रकाशन यूएसए के जर्नल में किया गया है, जिसमें इनका कहना है की अभी तक ब्लैक होल के तापमान का ग़लत अनुमान करते आ रहे थे क्योंकि ये अनुमान कुछ अपूर्ण अवधारणाओं पर आधारित था अतः उसको सैद्धांतिक रूप से इसमें सुधार का प्रस्ताव किया गया है, जिससे सही तापमान का अनुमान लगाना सम्भव होगा, यह रीसर्च महत्वपूर्ण है क्योंकि यह प्रयोगशाला में ब्लैक होल निर्माण करने में सहयोग करेगा व साथ ही ब्रम्हाण्ड के निर्माण सम्बन्धी गूढ़ रहस्यों को भी सुलझाएगा।कपिल चंद्रा अपने कुशल शासकीय कार्य संचालन के साथ ही ब्रम्हांड विज्ञान के क्षेत्र में भी लगातार शोध करते रहे हैं।

Mynews36 प्रतिनिधि राजीव गुप्ता की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.