Chandra Grahan
Chandra Grahan
Chandra Grahan

रायपुर/Chandra Grahan : साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून शुक्रवार को लगने वाला है।इससे पहले जनवरी माह में साल का पहला चंद्रग्रहण पड़ा था। यह चंद्रग्रहण (Chandra Grahan) ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा तिथि पर लगेगा और यह उपछाया ग्रहण होगा।ग्रहण 5 जून की रात को 11 बजकर 15 मिनट से लगना आरंभ होगा जो अगले दिन रात के 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा।ग्रहण के दौरान चंद्रमा वृश्चिक राशि में भ्रमण करेगा।उपछाया में पूर्ण चंद्र ग्रहण नहीं होता है इसमें चंद्रमा सिर्फ धुंधला दिखाई पड़ता है इस कारण से इसको चंद्र मालिन्य भी कहा जाता हैं।इसलिए इस चंद्रग्रहण को उपछाया चंद्रग्रहण कहते हैं।

चंद्र ग्रहण का समय

चंद्र ग्रहण का प्रारंभ – 5 जून की रात को 11 बजकर 15 मिनट से
परमग्रास चन्द्र ग्रहण – 6 जून को दिन के 12 बजकर 54 मिनट पर
उपछाया चंद्र ग्रहण से अन्तिम स्पर्श – 2 बजकर 34 मिनट पर
चंद्र ग्रहण का कुल समय – 3 घंटे और 18 मिनट

सूतक काल

सूतक काल में प्रकृति बहुत ज्यादा संवेदनशील होती है , ऐसे में अशुभ होने की संभावना भी ज्यादा होती है।चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण दोनों के समय सूतक लगता है। सूतक में सावधान रहना चाहिए और ईश्वर आराधना करना चाहिए।सूतक काल में कुछ सावधानियां भी बरतना चाहिए। सूतक काल में किसी भी तरह के शुभ काम का निषेध रहता है इस समय मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिये जाते है।5 जून को लगने वाला चंद्र ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने की वजह से सूतक काल का प्रभाव कम रहेगा।

ग्रहण काल में ये सावधानियां बरतें

शास्त्रोक्त मान्यताओं के अनुसार, चंद्र ग्रहण के दिन सात्विक रहकर ईश्वर आराधना करना चाहिए।ग्रहण काल में किए गए कार्यों का शुभ फल प्राप्त नहीं होता है।इसलिए ग्रहण काल में भगवान की मूर्ति स्पर्श नहीं करनी चाहिए।इस दौरान ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।ग्रहणकाल में खाना-पीना नहीं करना चाहिए।इस समय बाल और नाखून नहीं काटना चाहिए।गर्भवती महिलाएं को ग्रहणकाल में विशेष सावधानी बरतना चाहिए और कैंची, चाकू आदि नुकीली चीजों से कोई वस्तु नहीं काटनी चाहिए।

MyNews36 App डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.