कोरोना संकट में भी आसान हुई सोनाली की जिंदगी

रायपुर- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशन में प्रदेश के अन्य प्रान्तो से छत्तीसगढ़ वापस लौटे श्रमिकों और व्यक्तियों को, जिनके नाम पर कोई राशनकार्ड नहीं है या किसी भी राशनकार्ड में उनका नाम दर्ज नहीं है, उनको माह मई और जून के लिये 5 किलो चावल प्रति व्यक्ति प्रति माह की दर से और 1 किलो चना प्रति परिवार प्रति माह की दर से निशुल्क प्रदान किया जाना है।इसके लिये सभी जनपद कार्यालयों मे और नगर पंचायत कार्यालयों मे ऐसे प्रवासी श्रमिकों की पहचान कर ऑनलाइन एन्ट्री का कार्य किया जा रहा है।योजना का लाभ केवल ऐसे प्रवासी श्रमिकों को दिया जाना है, जिनका नाम किसी भी राशनकार्ड मे दर्ज नही है।

इसी कड़ी मे बलौदाबाजार शहर के नगर भवन के समीप स्थित उचित मूल्य की दुकान से पुरानी बस्ती निवासी सोनाली नवरंगे के 3 सदस्यीय परिवार को इस योजना के तहत निशुल्क खाद्यान्न का लाभ दिया गया है।उन्होंने एक महीने का 15 किलोग्राम चावल उठाया है। खाद्यान्न प्राप्त करने के बाद परिवार के समाने अब खाने की समस्या नहीं होगी।उनकी जिंदगी कोरोना काल में भी आसान हो गई है।प्रवास से वापस लौटने के बाद ये परिवार शहर के वार्ड 07 मे निवासरत है।उसे 15 किलो चावल और मिलेगा। सोनाली नवरंगे की तरह ही कोई भी प्रवासी श्रमिक जो इस योजना के अन्तर्गत पात्र हैं।

इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकेगा। इसके लिये वह प्रवासी श्रमिक जिसका नाम किसी भी राशनकार्ड मे दर्ज नही है, अपने आधार नम्बर और अन्य पहचान पत्र दस्तावेजों के साथ ग्रामीण क्षेत्र के लिये अपने ग्राम सचिव के माध्यम से सम्बंधित जनपद कार्यालय मे और नगरीय क्षेत्र मे नगर पालिका अथवा नगर पंचायत कार्यालय मे जानकारी प्रस्तुत कर सकेगा।जहा उसकी डाटा एन्ट्री की जायेगी। इसके बाद उसे उसके क्षेत्र की सम्बंधित शासकीय उचित मूल्य की दुकान से माह मई और जून के लिये निर्धारित खाद्यान्न प्राप्त हो सकेगा। वर्तमान मे जिले की सभी 6 जनपदों और 9 नगरीय निकायों मे ऐसे 485 परिवारो की पहचान कर 1072 लोगो की एन्ट्री पूर्ण कर ली गई है।

अन्य खबर

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से दुर्ग-राजनांदगांव के विभिन्न औद्योगिक और व्यावसायिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने की मुलाकात

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आज यहां उनके निवास कार्यालय में भिलाई, दुर्ग, राजनांदगांव और बिलासपुर के विभिन्न औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधि मण्डल ने सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने देश के लोकप्रिय मुख्यमंत्रियों की रैंकिंग में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल को दूसरा स्थान प्राप्त होने पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दीं। हाल ही में एक ख्याति प्राप्त संस्था द्वारा मुख्यमंत्रियों के कार्याें और जनता के बीच उनकी छवि को लेकर राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण कराया गया था। जिसमें लोकप्रिय मुख्यमंत्रियों की सूची में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल दूसरे स्थान पर रहे। औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने इस अवसर पर कहा कि मुख्यमंत्री श्री बघेल की इस उपलब्धि से छत्तीसगढ़ गौरवान्वित हुआ है।

प्रतिनिधि मण्डल ने राज्य सरकार की उद्योग और व्यापार हितैषी नीतियों और कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए प्रयासों हेतु राज्य सरकार की प्रशंसा की। प्रतिनिधि मण्डल ने कहा कि राज्य के लघु, सूक्ष्म और मध्यम उद्योगों द्वारा तैयार उत्पादों को शासकीय खरीदी में प्राथमिकता देने की राज्य सरकार की नीतियों से इस सेक्टर के उद्योगों को प्रोत्साहन मिला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में व्यापार को बढ़ावा देने के लिए कम्पनियों के ऐसे उत्पाद जो छत्तीसगढ़ में तैयार नहीं होते हैं, शासकीय खरीदी में उनकी आवश्यकता होने पर उन उत्पादों की खरीदी कम्पनियों के छत्तीसगढ़ स्थित वितरकों से करने का निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री बघेल ने प्रतिनिधि मण्डल के आग्रह पर छत्तीसगढ़ के स्पंज आयरन उद्योगों के लिए एनएमडीसी से आयरन ओर के लिए लॉन्ग टर्म प्राईसिंग पॉलिसी तय करने और छत्तीसगढ़ के स्पंज आयरन उद्योगों को पांच मिलियन टन आयरन ओर की आपूर्ति के संबंध में पहल करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्योगों के संचालन के दौरान कोरोना संक्रमण रोकने के लिए केन्द्र और राज्य सरकार की गाईड लाइन का सख्ती से पालन किया जाए। बाहर से उद्योगों में सामान लाने वाले ट्रकों के ड्राइवरों और क्लीनरों के ठहरने की पृथक से व्यवस्था की जाए और उनको उद्योगों के कर्मियों के सम्पर्क से दूर रखा जाए।

प्रतिनिधि मण्डल ने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से एनएमडीसी से मिलने वाली आयरन ओर की कीमतों में कमी आयी है, परंतु उनकी जटिल नीतियों के कारण प्रति माह मूल्य में वृद्धि होती रहती है, यदि एक लंबी अवधि के लिए मूल्य निर्धारण का प्रावधान हो सके तो उद्योग संचालन में सुगमता होगी। उन्होंने उद्योगों के हित में राज्य शासन द्वारा की गई जमीन फ्री होल्ड की घोषणा के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया और इसे जल्द क्रियान्वित कराने का आग्रह किया। प्रतिनिधि मण्डल ने जेम पोर्टल के स्थान पर सीएसआईडीसी के माध्यम से शासकीय खरीदी प्रारंभ करने पर मुख्यमंत्री श्री बघेल को धन्यवाद दिया, साथ ही उन्होंने यह अनुरोध भी किया कि छत्तीसगढ़ स्थित बड़े संयंत्र अपनी आवश्यकता की वस्तुएं जो राज्य के लघु उद्योगों द्वारा उत्पादित हैं, उनका आयात बाहर से न करें और छत्तीसगढ़ मंे निर्मित उत्पादों का ही उपयोग करें तो इससे छत्तीसगढ़ के उद्योगों को काम मिलेगा। प्रतिनिधि मण्डल ने पोल्ट्री उद्योग को लॉकडाउन के दौरान हुए नुकसान से अवगत कराया। राइस ब्रान तेल उत्पादन से जुड़े प्रतिनिधि ने बताया कि छत्तीसगढ़ में सबसे अच्छी क्वालिटी का राइस ब्रान तेल बनाया जाता है, शासन के सहयोग से इसे अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई जा सकती है।

प्रतिनिधि मण्डल ने मुख्यमंत्री बघेल को सीएम रैंकिंग में द्वितीय स्थान प्राप्त होने पर स्मृति चिन्ह भेंट कर उन्हें शुभकामनाएं दी।बघेल ने प्रतिनिधि मण्डल की विभिन्न मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ लघु एवं सहायक उद्योग संघ के के.के. झा, बीएसपी एंसीलरी इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन भिलाई के अरविन्दर सिंह खुराना, बोराई इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन रसमड़ा दुर्ग के रवि गुप्ता, स्पंज आयरन मैन्युफेक्चर एसोसिएशन भिलाई के अनिल अग्रवाल और बहादुर अली सहित विभिन्न औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.