Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Big News MyNews36:मेढा में रेत का धंधा,प्रशासन गूंगा,माईनिंग अंधा!

बिना रायल्टी रेत की निकासी,अब तक एक करोड़ रूपए के रेत की चोरी

Big News MyNews36

राजनांदगांव/संवाददाता- प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कहते हैं कि- खनिज संपदा की चोरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी पर राजनांदगांव जिले में खनिज संपदा की चोरी को वे कैसे बर्दाश्त कर रहे हैं?राजनांदगांव जिले में बढ़ती जा रही खनिज संपदा की चोरी पर अब ये सवाल आम होते जा रहे हैं।जिले भर में जिस ढंग से बेखौफ रेत की चोरी की जारी है वह बिना किसी प्रशासनिक और राजनीतिक संरक्षण के संभव ही नहीं है?रेत केे अवैध उत्खनन के मामले में कांग्रेस के नेता गूंगे-बहरे की तरह हो गए हैं वहीं माइनिंग विभाग के आंखों में पट्टी बंध गई है।जिला प्रशासन भी रेत माफियाओं पर पूरी तरह से मेहरबान है।रेत की चोरी का एक बड़ा प्रमाण सामने आया है।डोंगरगांव विधानसभा क्षेत्र के सिंगारपुर ग्राम पंचायत के आश्रित ग्राम मेंढा में जहां बिना रायल्टी पर्ची,बिना ग्राम पंचायत के प्रस्ताव,बिना पर्यावरण NOC के बेखौफ रेत की निकासी की जा रही है।शिवनाथ नदी में दो पोकलैंड मशीन दिन रात रेत लोडिंग का काम कर रही है।अब तक यहां एक करोड़ रूपए से अधिक की रेत की चोरी की जा चुकी है।सवाल यह उठता है कि-जब बरछाटोला के खाली रेत खदान की नापजोख कर जिला प्रशासन,माईनिंग और पुलिस वाले जब लालूटोला के उपसरपंच के पति के खिलाफ रेत चोरी का अपराध दर्ज कर साढे आठ लाख का जुर्माना ठोक कर अपनी बांहे चढ़ा सकते है तब मेढा के रेत चोरी के मामले में कार्रवाई करने में उनके हाथ क्यों कांप रहे हैं?

आए थे तहसीलदार एसडीएम, देखकर चले गए-सरपंच

ग्राम पंचायत की सरपंच साहू का कहना है कि-उन्होने इस मामले की शिकायत की है।शिकायत के बाद डोंगरगांव के तहसीलदार,एसडीएम,जनपद पंचायत के अधिकारी मौके पर आए थे पर देखकर चले गए।अब सवाल यह उठता है कि-तहसीलदार,एसडीएम मौके पर क्या करने गए थे और किसके कहने पर बिना कार्रवाई के खाली हाथ लौट गए?

लाखों में बिका खदान

मेढा शिवनाथ नदी से रेत निकासी की जो सच्चाई सामने आई है उससे यह साफ है कि-गांव वाले भी बिके हुए हैं,मोटा रकम लिए हैं।अब सवाल यह कि उन्हे खरीदा कौन है? इस खदान के संचालन में जो-जो नाम सामने आ रहे हैं उसमें अधिकांश लोग राजनांदगांव शहर के हैं और कांग्रेस घरानों से ताल्लुक रखते हैं।बहरहाल बदनामी के इस धंधे में सर्वाधिक नुकसान पंचायत और प्रशासन का हो रहा है फिर भी जिला प्रशासन हाथों में चूड़ी पहने बैठी हुई है।

पूरन साहू की रिपोर्ट

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.