इस माह से 8 बैंकों के IFSC, चेकबुक सहित डेबिट-क्रेडिट कार्ड में होने जा रहा बड़ा बदलाव,ग्राहकों पर होगा यह असर…..

रायपुर Mynews36 – आठ सरकारी बैंकों का इस महीने विलय होने जा रहा है। जिनमें विजया बैंक, कॉरपोरेशन बैंक, आंध्र बैंक, सिंडिकेट बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और देना बैंक शामिल हैं। अगर आपका भी इनमें से किसी बैंक में खाता तो यह खबर आपके बेहद काम की है। बैक मर्ज होने से चेकबुक, डेबिट-क्रेडिट कार्ड, आईएफएससी और एमआईसीआर कोर्ड में बदलाव हो गया है। जानें विस्तार से क्या होगा असर।

चेकबुक नहीं रहेगी मान्य

बैंकों के विलय होने से चेकबुक मान्य नहीं रहेगी। जिसमें बैंक विलय हो रहा है उसकी नई चेकबुक इश्यू कस्टमरों को करवानी पड़ेगी। सिंडिकेट बैंक ने अपने ग्राहकों को चेकबुक का इस्तेमाल करने की 30 जून तक छूट दी है। वहीं रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकों को अगले एक या दो महीने के लिए पुरानी चेकबुक्स को जारी रखने की अनुमति दी है।

आईएफएससी और एमआईसीआर कोड में बदलाव

बैंकों के विलय से आईएफएससी और एमआईसीआर कोड बदल जाएगा। हर बैंक का माइग्रेशन अलग-अलग होता है। ऐसे में ग्राहकों को बैंक शाखा जाकर पता करना होगा कि क्या क्या बदल रहा है। उसके अनुसार की लोन, जीवन बीमा और म्यूचुअल फंड आदि भुगतान के लिए ईसीएस निर्देशों को बदलने की जरूरत होगी।

एफडी और लोन में बदलाव

बैकों के विलय होने पर नए अपडेट, शर्ते और नई दरें लागू होंगी। ग्राहकों को बैंक जाकर अपने लोन और फिक्स्ड डिपॉजिट्स के ब्याज दर के लिए संपर्क करना होगा।

नए कार्ड होंगे जारी

बैंकों के विलय होने पर ग्राहकों के डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स एक्सपायरी डेट तक जारी रहेंगे। इसके बाद नए कार्ड के लिए बैंक जाना होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.