84 साल में पहली बार कोरोना संक्रमण के चलते लालबाग में नहीं विराजेंगे बप्पा

Photo: ANI

देशभर में कोरोना वायरस ने हाहाकार मचाया हुआ है और इसका असर त्योहारों पर भी पड़ने लगा है। यहां तक की इस बीमारी से देशभर में मनाया जाने वाला गणेश उत्सव का त्योहार भी अछूता नहीं रहा है।यही कारण है कि मुंबई के महशहूर लालबाग के राजा के आयोजकों ने ऐलान किया है कि इस साल मंडल दुनियाभर में मशहूर लालबाग के राजा की प्रतिमा नहीं लाएगा। यह खबर आते ही सोशल मीडिया में #LalbaghchaRaja ट्रेंड करने लगा। हर साल इस मंडल में गणेश उत्सव के दौरान लाखों लोग दर्शनों के लिए पहुंचते हैं लेकिन इस साल ऐसा नहीं हो पाएगा। महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण राज्य सरकार ने प्रदेश में लॉकडाउन 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है साथ ही राज्य में गणेश उत्सव ना मनाने के निर्देश भी दिए हैं।

इस बीच लालबागचा राजा गणपति मंडल ने यह बड़ा फैसला लिया है। इसकी बजाय मंडल इस साल ब्लड डोनेशन कैंप का आयोजन करने वाला है। साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष में दान देने के अलावा पाक और चीन सीमा पर शहीद हुए सैनिकों के परिजनों की मदद भी करेगा।

राज्य सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार, इस साल गणपति उत्सव का आयोजन ना हो और जहां हो वहां गणपति की प्रतिमा 4 फीट से ऊंची ना हो। ऐसे में मंडल के लोगों का कहना है कि इतनी छोटी प्रतिमा लगाने से दर्शनों के लिए भारी भीड़ उमड़ेगी। वहीं गणपति की लंबाई भी कम नहीं की जा सकती। ऐसे में इस साल प्रतिमा ना लाने का फैसला किया गया है। हर साल लालबाग के राजा की 14 फीट ऊंची प्रतिमा लाई जाती है।

84 साल में पहली बार ऐसा होगा जब लालबाग के राजा की प्रतिमा नहीं लाई जाएगी। राज्य में गणपति उत्सव बड़ी धूम से मनाया जात है लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के कारण इस त्योहार पर असर पड़ रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.