save crops from grasshopper
save crops from grasshopper

रायपुर- टिड्डी दल से फसलों के बचाव के लिए कृषि विभाग ने किसानों को आवश्यक सतर्कता एवं उपाय सुनिश्चित करने को कहा है। कृषि विभाग ने केन्द्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केन्द्र रायपुर द्वारा जारी पत्र का उल्लेख करते हुए कहा है कि टिड्डी दल (save crops from grasshopper) सीमावर्ती राज्य महाराष्ट्र एवं मध्यप्रदेश राज्य से होते हुए छत्तीसगढ़ राज्य में आने की संभावना है। इससे फसलों के नुकसान को बचाने के लिए कृषि विभाग ने प्राकृतिक उपचार, परंपरागत उपाय, रासायनिक उपचार अपनाने की सलाह (save crops from grasshopper) कृषकों को दी है।

कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि- टिड्डा कीट लगभग दो से ढाई इंच लंबा होता है। टिड्डा कीट हमेशा समूह में रहते हैं। टिड्डी दल जब भी समूह में खेत के आसपास आकाश में उड़ते दिखाई दे, तो उनको उतरने से रोकने के लिए तुरंत खेत के आसपास मौजूद घास-फूस को जलाकर धुंआ करना चाहिए। इससे टिड्डी दल खेत में न बैठकर आगे निकल जाएगा। टिड्डी दल के दिखाई देते ही ध्वनि विस्तारक यंत्रों के माध्यम से आवाज कर उनको अपने खेत में न बैठने दें। अपने खेत में पटाके फोड़कर, थाली बजाकर, ढोल नगाड़े बजाकर, शोरगुल करने से टिड्डी दल आगे निकल जाता है। इसी तरह ट्रेक्टर के साइंलेसर की तेज ध्वनि की जा सकती है। कल्टीवेटर या रोटावेटर चलाकर टिड्डी को तथा उसके अड्डे को नष्ट किया जा सकता है। किसी भी क्षेत्र से टिड्डी दल को भगाने के लिए ध्वनि विस्तारक यंत्रों के माध्यम से भोर के समय में ध्वनि अथवा शोरगुल किया जाना ज्यादा उपयुक्त होता है।

कृषि विभाग ने टिड्डी दल के प्रकोप की रोकथाम के लिए किसानों को रासायनिक उपचार के बारे में भी आवश्यक जानकारी दी है। टिड्डी दल शाम को 6 से 7 बजे के आसपास जमीन में बैठ जाता है और सुबह 8 से 9 बजे के करीब उड़ता है। रासायनिक यंत्रों के लिए इस अवधि में इनके ऊपर ट्रेक्टर चलित स्पेयर की मदद से कीट नाशक दवाईयों का छिड़काव करके इनकों मारा जा सकता है। दवाओं का छिड़काव का सबसे उपयुक्त समय रात्रि 11 बजे से सुबह 8 बजे तक होता है। टिड्डी के नियंत्रण हेतु डाईफ्लूबेनज्यूरान 25 प्रतिशत घुलनशील पावडर 120 ग्राम या लैम्बडा-साईहेलोथ्रिन 5 प्रतिशत ईसी 400 मिली या क्लोरोपायरीफॉस 20 ईसी 200 मिली प्रति हेक्टेयर कीटनाशक का छिड़काव किया जाना चाहिए। कृषि विभाग ने किसानों से टिड्डी दल के दिखाई देते ही तत्काल अपने इलाके के कृषि विभाग के अधिकारी, किसान मित्रों, सलाहकारों अथवा कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ. चंद्रमणी साहू अथवा किसान हेल्प लाईन टोल फ्री नंबर 18002331850 पर संपर्क किया जा सकता है।

MyNews36 App डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.