आर्सेल मित्तल कम्पनी के अवैध लौह अवशेष भंडारन की शिकायत व उच्च स्तरीय जांच की मांग को लेकर अध्यक्ष से की चर्चा…

दंतेवाडा/Mynews36 प्रतिनिधि – बस्तर संभाग के दन्तेवाड़ा जिला के किरन्दुल स्थित कार्यरत आर्सल मित्तल निपान कम्पनी के द्वारा विगत कई माह से खनिज अधिनियम 2009 , पर्यावरण व जल अधिनियम के क्लॉज का उलंघन कर लगातार पेशा कानून के प्रावधान की धज्जियां उड़ा आदिवासी गैर आदिवासियों की जमीनों पर बिना ग्राम सभा की अनुमति व नगर पालिका के बिना अनुमति के लीज एरिया से बहार से निकल कर रासायनिक मिश्रीत लौह अवशेष का भंडारण कर उपजाऊ जमीन को बंजर कर भूमिगत जल स्तर पर रासायनिक मिश्रित लौह अवशेष मिलने से पानी दूषित होने पर भयानक महामारी का डर बना हुआ है। इन बिंदुओं पर मोर्चा का जांच दल किरन्दुल पहुँच घटना स्थल का मुआयना कर प्रभावितों से मुलाकात कर कम्पनी की गलत नीतियों व खनिज नियमो का उलंघन कर लगातार बस्तर के हितों के खिलाफ कार्य किया जा रहा है।

जिसकी शिकायत बस्तर अधिकार संयुक्त मुक्ति मोर्चा द्वारा पूरे दस्तावेज के साथ जिला दन्तेवाड़ा कलेक्टर से मुलाकात कर ज्ञापन सौप कार्यवाही की मांग की है। समस्या के गम्भीरता को देखते हुए मोर्चा द्वारा पूरे मामले में निष्पक्ष जांच व कार्यवाही की मांग हेतु बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल से मुलाकात की गई। पूरे मामले को गम्भीरता से लेते हुए प्राधिकरण के अध्यक्ष ने कमिश्नर बस्तर को पत्र लिख पूरे मामले की जांच कर कार्यवाही की मांग की है। इस दौरान मोर्चा के सयोंजक नवनीत चाँद ,बेनी फर्नाडिस ,आरिफ पवार ,भरत कश्यप,बोमड़ा मंडावी,उपेंद्र बांधे, सुजीत नाग,सनी सिह,शोभा गंडोत्रा ,अंकिता गुरुदत्त,शेफाली चक्रवर्ती शहबाज बेग,सद्दाम खान ,सकरु रावण ईश्वर बघेल ,तसमेश्वरी शाहू ,मीना केसर वानीआदि सदस्य उपस्थित थे।

MyNews36 प्रतिनिधि एस.डी.ठाकुर की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.