छत्तीसगढ़ में पिछले 4 वर्षों की तुलना में सर्वाधिक

रायपुर – छत्तीसगढ़ में तेन्दूपत्ता संग्रहण वर्ष 2022 की प्रथम निविदा में अधिसूचित मात्रा की 68 प्रतिशत मात्रा का विक्रय औसत दर 8 हजार 067 रूपए प्रति मानक बोरा की दर से 914 करोड़ रूपए में किया गया, जो कि पिछले चार वर्षों के प्रथम निविदा के विक्रय की तुलना में सर्वाधिक रहा।वर्ष छत्तीसगढ़ में तेन्दूपत्ता के संग्रहण से पूर्व उसकी गुणवत्ता पर विशेष ध्यान रखा जाएगा ताकि संग्राहक उच्च गुणवत्ता के तेन्दूपत्ता का संग्रहण

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर के निर्देशानुसार राज्य लघु वनोपज संघ द्वारा इस करें और उन्हें संग्रहण पारिश्रमिक अधिक से अधिक प्राप्त हो सके। इस वर्ष तेन्दूपत्ता की मांग अच्छी होने के कारण विक्रय दर में वृद्धि हुई है। छत्तीसगढ़ राज्य की अच्छी गुणवत्ता के तेन्दूपत्ता को ध्यान में रखकर तेन्दूपत्ता संग्रहण वर्ष 2022 की प्रथम निविदा में सम्पूर्ण देश के 174 निविदाकारों ने प्रथम निविदा में भाग लिया।

इस तारतम्य में वन मंत्री मोहम्मद अकबर की अध्यक्षता में विगत दिवस वनोपज राजकीय व्यापार अंतर्विभागीय समिति की बैठक आयोजित हुई। बैठक में लिए गए निर्णयानुसार तेन्दूपत्ता संग्रहण वर्ष 2022 की प्रथम निविदा में अधिसूचित मात्रा के 68 प्रतिशत मात्रा का विक्रय 914 करोड़ रूपए में किया गया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव वन एवं जलवायु परिवर्तन मनोज पिंगुआ, प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख राकेश चतुर्वेदी, प्रबंध संचालक राज्य लघु वनोपज संघ संजय शुक्ला,सचिव वन प्रेम कुमार सहित संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

छत्तीसगढ़ शासन द्वारा वर्ष 2019 से तेन्दूपत्ता संग्रहण दर 2500 रूपए प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 4000 रूपए प्रति मानक बोरा निर्धारित की गई है। राज्य में वर्ष 2022 में संग्रहित होने वाले 902 प्राथमिक बनापेज सहकारी समितियों के 954 लाटों की अधिसूचित मात्रा 16.72 लाख मानक बोरा तेन्दूपत्ता के अग्रिम विक्रय हेतु 07 दिसम्बर 2021 से 14 दिसम्बर 2021 तक प्रथम चक्र की ऑनलाइन निविदायें आमंत्रित की गई थी। अवशेष लाटों की अधिसूचित मात्रा तेन्दूपत्ता के अग्रिम विक्रय हेतु 04 जनवरी 2022 से 06 जनवरी 2022 तक द्वितीय चक्र की ऑनलाइन निविदायें आमंत्रित की गई है।

तेन्दू पत्ता संग्रहण वर्ष 2019 में प्रथम निविदा में अधिसूचित मात्रा की 25 प्रतिशत मात्रा का विक्रय 240 करोड़ रूपए में किया गया था। तेन्दूपत्ता संग्रहण वर्ष 2020 में प्रथम निविदा में अधिसूचित मात्रा की 18 प्रतिशत मात्रा का विक्रय 172 करोड़ रूपए में किया गया था। तेन्दूपत्ता संग्रहण वर्ष 2021 में प्रथम निविदा में अधिसूचित मात्रा की 62 प्रतिशत मात्रा का विक्रय 704 करोड़ रूपए में किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.