बीजापुर में पुलिस-नक्स‍ल मुठभेड़ में 5 जवान शहीद,12 घायल….

बीजापुर – छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले के तररेम थाना इलाके में शनिवार दोपहर नक्सलियों से मुठभेड़ में फोर्स के पांच जवान शहीद हो गए और 12 जवान घायल हो गए। मुठभेड़ स्थल से एक महिला नक्सली का शव भी बरामद हुआ है। डीआइजी नक्सल ओपी पाल ने प्रेस वार्ता में इसकी पुष्टि की है। डीआइजी नक्सल ने बताया कि मुठभेड़ सुकमा-बीजापुर सीमा पर टेकुलगुडम गांव में हुई।दो अप्रैल की रात बीजापुर और सुकमा से सीआरपीएफ, डीआरजी, एसटीएफ और कोबरा के संयुक्त बल आपरेशन के लिए निकले थे।

बीजापुर के तररेम से 760, उसूर से 200, पामेड़ से 195 एवं सुकमा के मीनपा से 483 और नारसापुरम से 420 जवान ऑपरेशन में थे शामिल। मुठभेड़ में नक्सलियों को भी बड़ा नुकसान हुआ है। शहीद जवानों के पार्थिव शरीर तरेम थाने लाए जाने की जानकारी सामने आई है। यह वारदात जिला मुख्यालय से करीब 75 किमी दूर सिलगेर गांव के पास जोन्नगुड़ा के जंगल में हुई है। घटनास्थल से दो नक्सलियों का शव बरामद किए जाने की भी सूचना मिल रही है। घायल जवानों को निकालने के लिए एयरफोर्स के हेलिकाप्टरों व नौ एंबुलेंस को रवाना किया गया है।

घायल जवानों को लाया गया अस्पताल

घायल जवानो को एम्बुलेंस के माध्यम से बीजापुर जिला अस्पताल लाया गया, जवानों के उपचार के लिए व्यापक तैयारी पहले से की गई थी। कलेक्टर समेत पुलिस के आला अफसर पहले से अस्पताल में मौजूद रहे, जिन जवानों को अस्पताल लाया गया है उनकी हालत स्थिर है, फिलहाल 10 घायल जवानों को अभी जिला अस्पताल लाया गया है।

सुकमा व बीजापुर जिले के सीमावर्ती जंगलों में नक्सलियों की बटालियन नंबर एक सक्रिय है। इसके कमांडर दुर्दांत नक्सली हिड़मा के इस इलाके में होने की सूचना मिलने पर शुक्रवार को बीजापुर व सकुमा से डीआरजी, कोबरा व एसटीएफ के जवानों को सर्च ऑपरेशन पर भेजा गया था। इसी दौरान घात लगाकर नक्सलियों ने फोर्स की एक टुकड़ी को घेरकर फायरिंग शुरू कर दी। साथियों को गिरता देखकर भी जवानों ने हौसला दिखाया और तुरंत पोजिशन ली।

नक्सलियों के हिडमा ग्रुप के होने की मिली थी जानकारी

बताया जा रहा है कि क्षेत्र में नक्सलियों के हिडमा ग्रुप के सक्रिय होने की जानकारी मिली थी। इसके बाद सुकमा और बीजापुर से सुरक्षाबलों ने इन्हें पकड़ने के लिए संयुक्त कार्रवाई करने जंगल में उतरे। देर रात दोनों जिलों से सुरक्षाबलों के दल सीमावर्ती इलाके सिलगेर की ओर निकले। सुबह बीजापुर की डीआरजी और सीआरपीएफ की संयुक्त पार्टी से नक्सलियों के मुठभेड़ शुरू हुई। जानकारी के मुताबिक सिलगेर गांव सुकमा जिले में आता है और इसके पास लगी जिस पहाड़ी पर मुठभेड़ हुई है वो बीजापुर में है।

23 मार्च को नारायणुपर में आइइडी धमाके में 5 जवान हो गए थे शहीद

शांति वार्ता का प्रस्ताव रखने के बाद नक्सली लगातार सुरक्षाबलों को अपना निशाना बना रहे हैं। 23 मार्च को नारायणपुर में नक्सलियों द्वारा किए गए एक आइइडी धमाके में 5 जवाना शहीद हो गए थे।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों द्वारा किए गए बड़े हमले

  • 6 अप्रैल 2010 में ताड़मेटला हमले में सीआरपीएफ के 76 जवानों की शहादत ।
  • 25 मई 2013 झीरम घाटी हमले में 30 से अधिक कांग्रेसी व जवान शहीद ।
  • 11 मार्च 2014 को टहकवाड़ा हमले में 15 जवान शहीद ।
  • 12 अप्रैल 2015 को दरभा में यदे एम्बुलेंस । 5 जवानों सहित ड्राइवर व एएमटी शहीद ।
  • मार्च 2017 में भेज्जी हमले में 11 सीआरपीएफ जवान शहीद।
  • 6 मई 2017 को सुकमा के कसालपाड़ में किया घात लगाकर हमला जिसमें 14 जवान शहीद ।
  • 25 अप्रैल 2017 को सुकमा के बुरकापाल बेस केम्प के समीप किये नक्सली हमले में 32 सीआरपीएफ जवान शहीद।
  • 21 मार्च 2020 को सुकमा के मिनपा हमले में 17 जवानों की शहादत।

Leave A Reply

Your email address will not be published.