बिलासपुर – शहर विधायक शैलेष पांडेय के प्रयास से बिलासपुर वासियों को छत्तीसगढ़ के सबसे अत्याधुनिक अस्पताल की मिलेगी सौगात जल्द मिलने वाली है। मंगलवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा के शीतकालीन सत्र में विधायक शैलेष ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री टीएस सिंहदेव से कोनी में निर्माणाधीन सिम्स के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के संदर्भ में प्रश्न किया। स्वास्थ्य मंत्री ने सदन में बताया कि यहां न्यूरोलाजी, न्यूरोसर्जरी, कार्डियोलाजी, सीटीवीएस (कार्डियो थोरैसिक वैस्कुलर सर्जरी) नेफ्रोलाजी, यूरोलाजी से संबंधित बीमारियों का उपचार किया जाएगा। 300 बिस्तरों की क्षमता वाला अस्पताल निर्माण जल्द ही पूरा हो जाएगा और जनता को समर्पित कर दिया जाएगा।

विधायक शैलेष ने बताया कि वर्तमान सिम्स में सभी तरह के बेसिक इलाज की सुविधा उपलब्ध हैं पर सुपर स्पेशलिटी हास्पिटल बनने से कम खर्च में अधिक सुविधा मिल सकेगी। एक ही परिसर में सब कुछ रहेगा। कोनी में शासन ने सिम्स को 50 एकड़ जमीन उपलब्ध कराई है। इनमें से 10 एकड़ में राज्य के प्रथम कैंसर अस्पताल निर्माणा​धीन है।

इसी परिसर में से 40 एकड़ पर सुपर स्पेशलिटी अस्पताल व अन्य जरूरी इकाइयां रहेंगी। हार्ट, कैंसर सहित सभी गंभीर बीमारियों के लिए तैयार हो रहे सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में इमरजेंसी सुविधा भी रहेगी। रायपुर के डीकेएस मल्टी-स्पेशलिटी अस्पताल के बाद बिलासपुर में राज्य का यह दूसरा शासकीय मल्टी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल रहेगा।

इन विभागों का होगा संचालन

यहां हृदय रोग संबंधी सभी मेडिसिन व शल्य क्रियाएं(कार्डियोलाजी विभाग एवं कार्डियो थोरेसिक वैस्कुलर सर्जरी विभाग), किडनी रोग से संबंधित सभी मेडिसिन व शल्य क्रियाएं (नेफ्रोलाजी विभाग व यूरोलाजी विभाग) के साथ ही यहां मस्तिष्क रोग से संबंधित मेडिसिन व शल्य क्रियाएं(न्यूरोलॉजी विभाग व न्यूरोसर्जरी विभाग) यहां संचालित होंगे।

छत्तीसगढ़ का दूसरा शासकीय मल्टी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कोनी में बन रहा है। 44.58 एकड़ में बन रहे अस्पताल में राज्य कैंसर संस्थान, ट्रामा सेंटर, बर्न सेंटर, नवीन सिम्स छात्रावास, डॉक्टरों और स्टाफ के लिए आवास सहित अन्य सुविधाएं मिलेंगी। अस्पताल में अधिकतर निर्माण पूरे हो चुके हैं। बचे काम जल्द ही पूरे होने की संभावना है। यूं तो अस्पताल को फरवरी 2020 तक पूरा करना था लेकिन कोरोना महामारी में यह प्रोजेक्ट लेट हो गया। लेकिन दावा है कि 12 मंजिल के इस अस्पताल का निर्माण जल्द ही पूरा हो जाएगा। इसके शुरू होने से बिलासपुर सहित पूरे प्रदेश और देशभर के लोगों को सरकारी दर पर बेहतर इलाज मिलेगा।

नगर विधायक शैलेष पाण्डेय ने बताया कि यह सिम्स से बिल्कुल अलग है। इस हॉस्पिटल में ओपीडी, आईपीडी, आपातकालीन चिकित्सा के अलावा गहन चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होगी। यहां बिलासपुर संभाग के अलावा छत्तीसगढ़ और देशभर के मरीजों को सरकारी दरों में स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। इसके अलावा सुपर स्पेशलिटी कोर्सेस की पढ़ाई शुरू होगी। इससे राज्य में सुपर स्पेशिलिटी डॉक्टरों की कमी दूर होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.