हस्तशिल्प और बुनकरों को प्रोत्साहित करने के लिए 20 दिवसीय गोंडवाना महोत्सव की हुई शुरुआत

रायपुर Mynews36.com – छत्तीसगढ़ के हस्तशिल्प और बुनकरों को प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित 20 दिवसीय प्रदर्शनी गोंडवाना महोत्सव शुरू हो चुका है। इस प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ के दूरस्थ अंचलों के शिल्पकार और बुनकरों द्वारा तैयार उत्कृष्ट कलाकृतियां प्रदर्शित की गई हैं। महोत्सव के दौरान आदिवासी लोक नृत्यों की प्रस्तुति भी होगी।

उपरोक्त जानकारी गोंडवाना महोत्सव के संयोजक वैभव सिसोदिया से दी है। उन्होंने बताया कि साइंस कॉलेज ग्राउंड रायपुर में आयोजित इस प्रदर्शनी में 250 से ज्यादा स्टॉल पर छत्तीसगढ़ के दूरस्थ अंचलों में तैयार होने वाले शिल्प को प्रदर्शित किया जाएगा। साथ ही मीना बाजार भी लगेगा।

मेले में कश्मीर की स्पेशल पशमीना शाल, सलवार सूट, कश्मीरी एंब्रायडरी साड़ी, पंजाब का फुलकारी, वाराणसी की बनारसी साड़िया व सलवार सूट, ओडिशा की हैंडलूम साड़ियां व बेडशीट्स, लखनऊ का चिकन वर्क, बालाघाट वारासिवनी की ट्रेडिशनल कोसा साड़ियां, चंदेरी व महेश्वरी साड़ियां, बाग दाबू प्रिंट विशेष रुप से एक्सपो का आकर्षण का केंद्र है।

यहां रोजाना सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। सुआ ,पंथी,राउत,कर्मा, सैला,गेड़ी,बेंगू डांस, के साथ ही राजस्थानी डांस , उड़िया नृत्य, कालबेलिया डांस का आयोजन भी होगा। यहां पर फूड जोन की बनाया गया है, जिसमें परंपरागत राजस्थानी, मालवी, गुजराती व छत्तीसगढ़ के व्यंजनों का आनंद लोग ले सकेंगे। मेले में बच्चों के लिए आकर्षक झूले लगाए गए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.