नई दिल्ली।राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू का कहना है कि गतिरोध के कारण जब सदन नहीं चलता तो उन्हें बेहद दुख होता है। साथ ही उन्होंने कहा कि-देश के लोग चाहते हैं कि संसद चले।राज्यसभा दिवस पर आयोजित समारोह में नायडू ने सोमवार को कहा कि इतने वर्षों में,सदन संसद के दूसरे जीवंत चैम्बर के रूप में उभरा है,जो राष्ट्र निर्माण के कार्यों में योगदान देता है।

राज्यसभा सचिवालय की ओर से जारी बयान में नायडू ने कहा-सदन के सदस्य ही उसे चला सकते हैं या ठप कर सकते हैं।निर्णय सदस्यों का ही है।हमें लोगों की आशाओं को ध्यान में रखना चाहिए और उसके हिसाब से काम करना चाहिए।

Summary
0 %
User Rating 0 Be the first one !
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Death: पुणे के पास एक ही परिवार के तीन लोगों की डूबने से मौत

पुणे–महाराष्ट्र के पुणे जिले के तालेगांव के पास एक बांध के गहरे पानी में डूबने से एक…